Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

Recent Posts

क्या आप जानते है , औरतों के लिए हज में महरम की शर्त क्यों है ?

औरतों के लिए हज में महरम की शर्त क्यों है ! मसअला : मैं शरई मसअला बताता हूँ ” ल्योन ” का जवाब नहीं दिया करता । मगर आपके इत्मीनान के लिए लिखता हूँ कि बगैर महरम के औरत को तीन दिन या इससे ज़्यादा के सफर की आँहज़रत ( …

Read More »

कुर्बानी का एक जानवर बड़ा हो , दूसरी तरफ २ जानवर छोटे यानि हलके हो , तो कौनसे की कुर्बानी बेहतर है !

कुर्बानी किस कीमत की हो ? मसअला : खस्सी जानवर जब्कि गोश्त के लिहाज़ से बेहतर हो तो वह अफ़ज़ल है यानी अगर कुकरा और नादर ( ज़रूरत मंद गोश्त के ) ज़्यादा हो तो ज़्यादा गोश्त वाला जानवर अफ़ज़ल है । और अगर हाजत मंद कम हो तो फिर …

Read More »

बड़ा सवाल ; खस्सी जानवर की कुर्बानी करना सही है या नहीं ? जानिए

खस्सी बकरे, मेंढे , बैल की कुर्बानी जाइज़ है , इसमें किसी किस्म की कोई कराहत नहीं है , दोनों किस्म के ( खुसयतैन काट का या दबा कर निकाल दिए जाते है ) खस्सी की कुर्बानी जाइज़ है , उज़्व का कम हो जाना और कुचल कर बेकार कर …

Read More »